सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है | Saving and Current account difference

सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है | Saving and Current account difference: दोस्तों हम सबका एक बैंक अकाउंट जरूरी होता है जोकि सेविंग अकाउंट होता है मगर आप हमेशा अपनी लाइफ में यह सुनते आए हैं कि करंट अकाउंट होता है और सेविंग अकाउंट होता है। आज के समय में लोग पैसा कमाना चाहते हैं और दिन-रात इसके लिए मेहनत भी करते हैं मगर ऐसी स्थिति में थोड़े पैसे जब बचाने की बारी आती है तब सभी लोग बैंक में अपने अपने खाते की ओर भागते हुए नजर आते हैं। और अपना अकाउंट ओपन करते हैं यानी कि अपना बैंक अकाउंट खुलवाते हैं। उस समय पर वह लोग अपना खर्चा निकालकर बचा हुआ पैसा सेविंग अकाउंट में जमा करवा देते है।

और जब भी आवश्यकता पड़ती है तब वह एटीएम कार्ड से या फिर डेबिट कार्ड से पैसे निकाल लेते हैं। मगर आपने जरूर देखी होगी कि जब भी हम एटीएम में जाते हैं तब हमारे समक्ष तीन विकल्प आते हैं जिसमें सेविंग अकाउंट, करंट अकाउंट और क्रेडिट अकाउंट लिखा हुआ होता है। जिसमें से ज्यादातर लोगों का खाता सेविंग अकाउंट में ही होता है या फिर करंट अकाउंट में होता है। यहां पर बहुत से लोगों को समझ नहीं आता किसी भी अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है। तो आज के आर्टिकल में हम आपको सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है इसके बारे में जानकारी देंगे।

सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है

दोस्तों आपने यह बात जरूर देखी होगी या फिर इसमें होगी कि जब भी आप नया बैंक अकाउंट खुलवाने किसी भी नजदीक बैंक शाखा में जाते हैं और आवेदन पत्र लेते हैं। तब आपसे पूछा जाता है कि आप बैंक अकाउंट कौन सी प्रकार में खोलना चाहते हैं करंट अकाउंट या फिर सेविंग अकाउंट और हम बहुत सारे लोगों का ज्यादातर विकल सेविंग अकाउंट की तरफ ही होता है।

सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है | Saving and Current account difference
सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है | Saving and Current account difference

क्योंकि हमें उस में पैसे जमा करने होते हैं। और दूसरा विकल्प आता है जिसको हम करंट अकाउंट के नाम से जानते हैं उसकी हमें आवश्यकता नहीं पड़ती। क्योंकि हम कोई काम नहीं कर रहे हैं जिसकी वजह से हमें वह खाता चालू रखना है। तो आइए जानते हैं सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है इसके बारे में।

सेविंग अकाउंट क्या है

सेविंग अकाउंट को बचत खाता भी कहा जाता है और यह बैंक में ऐसा अकाउंट होता है जहां पर उपयोगकर्ता अपने बचे हुए पैसों को जोड़ते हैं। और यह बैंक खाता एक आम आदमी के लिए काफी ज्यादा महत्वपूर्ण तथा सहायक और लाभदायक साबित होता है। इस अकाउंट की खास बात यह होती है कि अकाउंट में जब चाहे तब पैसे जोड़ सकते हैं और जब चाहे तब पैसे निकाल भी सकते हैं।

पैसे जोड़ने के लिए भी इसमें विशेष रूप से विभिन्न तरीकों का उपयोग किया जाता है। अब डिजिटल का जमाना आ गया है तब लोग बैंक शाखा में ना जाते हुए डिजिटल एप्लीकेशन का उपयोग करते हैं जिसमें गूगल पे, फोन पे, पेटीएम आदि शामिल होते हैं। और कुछ लोग बैंक में जाकर राशि जमा करवाते हैं और रही बात इसमें से पैसे निकालने की तक 2 तरीकों से पैसे निकाले जाते हैं।

1 तरीके से आपको बैंक में जाकर पैसे निकालने की सुविधा प्राप्त होती है। और दूसरे तरीके से एटीएम या फिर डेबिट कार्ड से पैसे अपने सेविंग अकाउंट से निकाले जा सकते हैं। बचत खाते में आपको पैसा जोड़ने पर 3 से 4% का ब्याज भी मिलता है। जिसे हम इंटरेस्ट के नाम से जानते हैं, जो कि सालाना जमा की गई रकम पर मिलता है।

करंट अकाउंट क्या है

करंट अकाउंट को हम चालू खाता के नाम से जानते हैं जिस प्रकार से आपने चालू खाता यह नाम पड़ा इसे यही बात पता चलती है कि यह अकाउंट फिलहाल चल रहा है। और यह एक ऐसा खाता होता है जहां पर पैसे का लेनदेन रोजाना किया जा सकता है और हर समय होता ही रहता है ।यह अकाउंट विशेष रूप से कंपनी पब्लिक इंटरप्राइजेज और बिजनेस करने वाले लोगों के लिए खास तौर पर बनाए गए होते हैं और वही लोग इनका इस्तेमाल मूल रूप से रोजाना किया करते हैं।

यदि आम आदमी की बात की जाए तब आम आदमी के लिए करंट अकाउंट किसी भी काम का नहीं है। क्योंकि उसे केवल पैसे जोड़ने है और रोजाना अच्छे खासे रुपयों का लेनदेन नहीं करना है जो लोग बड़े पैमाने पर पैसों का लेनदेन करते हैं खासतौर पर करंट अकाउंट जिसे हम चालू खाता कहते हैं वह काम आता है। यदि आम आदमी अपना करंट बताओ खुलवाना चाहते हैं तब उनको अपना बिजनेस कंपनी यहां कुछ ऐसा काम दिखाना होगा जहां पर बड़े पैमाने पर पैसों का लेनदेन हो रहा हो।

सेविंग अकाउंट पर करंट अकाउंट में क्या अंतर है

  • सेविंग अकाउंट आम लोगों के लिए है जहां पर वह पैसे जोड़ सकते हैं।
  • सेविंग अकाउंट में ब्याज दर भी मिलता है जो जरूरत पड़ने पर निकाल सकते हैं
  • करंट अकाउंट में बिजनेस करने वाले लोगों के लिए उपलब्धता रखी गई है।
  • केवल व्यापारी ही करंट अकाउंट का उपयोग नियमित रूप से कर सकते हैं।
  • जिसके तहत रोजाना करेंट खाता उपयोगकर्ता बड़े पैमाने पर पैसे का लेन देन कर सकते हैं
  • जो व्यक्ति जॉब करता है उसके लिए सेविंग अकाउंट सही माना जाता है।
  • उसी के साथ विद्यार्थियों के लिए या गृहणियों के लिए भी सेविंग अकाउंट लाभदायक है
  • करंट अकाउंट बिजनेसमैन कंपनी इंटरप्राइजेज के लिए सही माना जाता है।
  • बचत खाता में पैसे जोड़ने पर किया जाता है जो 3 या 5% के बीच हो सकती है।
  • चालू खाते में बैंक की तरफ से किसी भी प्रकार का ब्याज नहीं किया जाता।
  • सेविंग अकाउंट में ट्रांजैक्शन की लिमिट होती है।
  • करंट अकाउंट में ट्रांजैक्शन की लिमिट नहीं होती।
  • आपको सेविंग अकाउंट में रखने के लिए न्यूनतम राशि कम बताई जाती है।
  • और करंट अकाउंट में रखने के लिए न्यूनतम राशि सेविंग अकाउंट की राशि से ज्यादा होती है।

Conclusion

तो दोस्तों यह भी जानकारी सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में क्या अंतर है इसके बारे में आशा है आपको हमारी आज की यह जानकारी पसंद आई होगी। वैसे तो यह दोनों अकाउंट काफी ज्यादा लाभदायक है, यदि आप विद्यार्थी है, गृहणी है या कोई ऐसे व्यक्ति हैं जो किसी के पास नौकरी करते हैं तब आपको सेविंग अकाउंट खुलवाना है सही रहेगा। और सेविंग अकाउंट पर कुछ राशि जमा होने के बाद आपको बैंक द्वारा ब्याज भी प्राप्त होगा। और जब चाहे आप पैसा इसमें जोड़ सकते हैं तथा निकाल भी सकते हैं कोई चिंता की बात नहीं है।

यदि आप अपना खुद का बिजनेस चलाते हैं या आपकी खुद की कंपनी है या फिर आप कुछ बड़े पैमाने पर लेनदेन करते हैं तब ऐसे सिटी में आपको करंट अकाउंट की आवश्यकता पड़ेगी। यदि आपको कोई भी सवाल हो तो नीचे कमेंट में जरूर पूछें हम आपका जवाब देने की पूर्ण रूप से कोशिश करेंगे। आपका आज कि यह पोस्ट पढ़ने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। आपका कमेंट हमारे लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है उसे लिखना ना भूले।

Leave a Comment